आगरा बस हादसा: सुबह 4:30 बजे ड्राइवर की झपकी से मौत की आगोश में समाए 29 लोग, नाले में लाश ही लाश(तस्वीरें)

संक्षेप:

  • यमुना एक्सप्रेसवे पर सोमवार सुबह 4:30 बजे लखनऊ से गाजियाबाद आ रही बस रेलिंग तोड़ते हुए 50 फीट गहरे नाले में जा गिरी.
  • बस में 40 से ज्‍यादा लोगों के सवार होने की बात कही जा रही है, इनमें से 29 यात्रियों की मौत हो गई.
  • घटना आगरा के एत्मादपुर थाना क्षेत्र के झरना नाले के पास की है.

आगरा: यमुना एक्सप्रेसवे पर सोमवार सुबह 4:30 बजे लखनऊ से गाजियाबाद आ रही बस रेलिंग तोड़ते हुए 50 फीट गहरे नाले में जा गिरी. बस में 40 से ज्‍यादा लोगों के सवार होने की बात कही जा रही है. इनमें से 29 यात्रियों की मौत हो गई. यमुना एक्सप्रेसवे पर सोमवार सुबह लखनऊ से दिल्ली आ रही बस रेलिंग तोड़ते हुए 50 फीट गहरे नाले में जा गिरी. इइसमें अब तक 29 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की जा चुकी है, जबकि 17 लोग घायल हैं. कहा जा रहा है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है.

यमुना एक्सप्रेसवे बस हादसे की दर्दभरी दास्तां, 29 लोगों के लिए नहीं हुई सुबह...

ये भी पढ़े : दूरदर्शन की प्रसिद्ध एंकर नीलम शर्मा का निधन, हाल ही में मिला था नारी शक्ति सम्मान


घटना सुबह 4.30 बजे की है. सभी यात्री सोए हुए थे. उसी वक्‍त अचानक बस यमुना एक्सप्रेसवे पर रेलिंग तोड़ते हुए 50 फीट गहरे नाले में गिर गई. नींद खुलने से पहले ही दर्जनों लोग मौत की आगोश में हमेशा के लिए सो गए. घटना आगरा के एत्मादपुर थाना क्षेत्र के झरना नाले के पास की है. खाई में पानी भरे होने की वजह से राहत बचाव कार्य में काफी मुश्किल आई. फ़िलहाल पुलिस शव की पहचान में जुटी है.

अवध डिपो की जनरथ बस में 44 लोग सवार थे. पुलिस का कहना है कि मरने वालों में एक बच्ची भी है

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि हो सकता है ड्राइवर की आंख लगने की वजह से हादसा हुआ हो. फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन लगभग पूरा हो चुका है. लोगों के सामान से मृतकों की शिनाख्त करने की कोशिश की जा रही है.

आगरा के जिलाधिकारी एनजी रवि कुमार ने भी बताया कि इस हादसे में 29 शवों को निकाला जा चुका है. एक घंटे में राहत बचाव पूरा हो सकता है. उन्होंने बताया कि नाले में पानी होने की वजह से मौतों का आंकड़ा ज्यादा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख मुआवजे का ऐलान किया है. साथ ही इस भीषण सड़क हादसे का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकारियों को राहत-बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि घायलों को समुचित इलाज मुहैया कराई जाए.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

अन्य आगरा न्यूज़ हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles