पांचवे चरण के चुनाव में ज्यादातर सीटों पर भाजपा-सपा में सीधी टक्कर

संक्षेप:

  • पांचवे चरण के चुनाव में भाजपा-सपा आमने-सामने।
  • 61 सीटों पर दोनों पार्टी की सीधी लड़ाई।
  • अयोध्या में भाजपा विधायक और सपा प्रत्याशी में कांटे की टक्कर।

लखनऊ- रविवार को पांचवें चरण की 61 सीटों के मतदान में ज्यादातर सीटों पर सीधी लड़ाई हुई। कुछ सीटों पर बसपा व कांग्रेस प्रत्याशियों ने त्रिकोण बनाया है। इसका नतीजों पर असर नजर आएगा। कुछ सीटों पर मतदान के ठीक पहले घटी कुछेक घटनाओं का असर भी मतदान के दौरान दिखा है। इसका किसी को फायदा तो किसी को नुकसान उठाना पड़ा है। कई सीटों पर प्रत्याशियों की छवि ने भी असर दिखाया है। लेकिन, मुस्लिम व यादवों की एकजुटता के बीच प्रत्याशियों की जाति-बिरादरी के अनुसार मतों का बिखराव, मुफ्त राशन व बेहतर कानून-व्यवस्था का फैक्टर एक समान हर जगह हावी नजर आया। चुनाव प्रचार में जोर-शोर से उठाए जाने वाले मुद्दे मतदान में ज्यादा प्रभावी नहीं दिखे। हालांकि, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण शुरू होने से जुड़े फैक्टर का कहीं-कहीं प्रभाव नजर आया। कई सीटों पर प्रचार तक दूसरा प्रभावी नजर आ रहा था, मतदान के दिन किसी दूसरे का पलड़ा भारी नजर आया।

अयोध्या : कई सीटों पर उलटफेर की संभावना

राम मंदिर को लेकर सुर्खियों में छाई रहने वाली अयोध्या में पांच सीटें हैं। यहां कई सीटों पर उलटफेर हो सकता है। अयोध्या सदर में भाजपा विधायक वेद प्रकाश गुप्ता व सपा प्रत्याशी तेज नरायन पांडेय उर्फ पवन पांडेय के बीच कांटे की टक्कर नजर आई। गोसाईंगंज में पूर्व विधायक खब्बू तिवारी की पत्नी आरती तिवारी व सपा प्रत्याशी अभय सिंह की सीधी लड़ाई में बसपा प्रत्याशी राम सागर वर्मा कई क्षेत्रों में तगड़ा त्रिकोण बनाते नजर आए हैं। कुर्मी मतों का बिखराव भी यहां हुआ है। रुदौली में भाजपा विधायक राम चंद्र यादव, सपा के आनंद सेन यादव व बसपा के अब्बास अली जैदी के  बीच त्रिकोण बनता दिखा। मिल्कीपुर में पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद व भाजपा विधायक बाबा गोरखनाथ तथा बीकापुर में भाजपा के अमित सिंह चौहान व सपा के फिरोज खान गब्बर के बीच कड़ा मुकाबला होता दिखा।

ये भी पढ़े : राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा की उम्मीदवार का समर्थन करेंगी मायावती, विपक्ष पर किया हमला


गोंडा: गौरा छोड़ सभी सीटों पर सपा-भाजपा में सीधी टक्कर

जिले में विधानसभा की 7 सीटें हैं। गोंडा सदर में कैसरगंज के सांसद बृजभूषण शरण सिंह के बेटे व भाजपा विधायक प्रतीक भूषण सिंह व पूर्व मंत्री स्व. विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह के भतीजे सूरज सिंह के बीच सीधा मुकाबला हुआ। यहां मतदान से पहले दो-तीन दिनों में दोनों प्रत्याशियों के समर्थकों के बीच जगह-जगह हुए विवाद भी चर्चा में रहे। यहां सवर्णों के मतों के बिखराव, सांसद के प्रभाव व सपा प्रत्याशी के पक्ष में सहानुभूति का फैक्टर भी दिखा। इसी तरह कर्नलगंज में मतदान से पहले की रात में सपा व भाजपा समर्थकों के विवाद में सपा प्रत्याशी के खिलाफ संगीन धाराओं में एफआईआर दर्ज हुई थी। मतदान के दौरान यह चर्चा का विषय रहा। यहां सपा प्रत्याशी व पूर्व राज्यमंत्री योगेश प्रताप सिंह व भाजपा प्रत्याशी अजय सिंह के बीच सीधी लड़ाई हुई। यहां दो दिन पहले तक क्षेत्रवाद का मुद्दा जो चरम पर था, विवाद ने उसे थोड़ा कमजोर करने का काम किया। मनकापुर में समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री को सपा के रमेश गौतम से सीधी चुनौती मिली है। पर, पूर्व विधायक बाबूलाल की पुत्री व कांग्रेस प्रत्याशी संतोष कुमारी का भी कई इलाकों में प्रभाव नजर आया। यहां की हार-जीत में संतोष का वोट अहम भूमिका अदा कर सकता है। गौरा में भाजपा विधायक प्रभात वर्मा की कांग्रेस प्रत्याशी व पूर्व विधायक राम प्रताप से सीधी लड़ाई नजर आई। सपा प्रत्याशी संजय विद्यार्थी यहां त्रिकोण बनाते नजर आए। तरबगंज में भाजपा के प्रेम नरायन पांडेय व सपा के राम भजन चौबे, मेहनौन में सपा की नंदिता शुक्ला व भाजपा के विनय कुमार द्विवेदी और कटरा बाजार में भाजपा के बावन सिंह व सपा के बैजनाथ दूबे के बीच सीधा मुकाबला नजर आया। इन सीटों पर बसपा प्रत्याशी कुछ क्षेत्रों में ही त्रिकोण बनाते दिखे।

If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Lucknow की अन्य ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें और अन्य राज्यों या अपने शहरों की सभी ख़बरें हिन्दी में पढ़ने के लिए NYOOOZ Hindi को सब्सक्राइब करें।

Related Articles