क्रिकेटर शमी की पत्नी हसीन जहां ने ADG से की शिकायत, बोलीं- पुलिस नाइटी में उठाकर ले गई थाने

संक्षेप:

  • हसीन जहां ने कहा कि थाने के दो इंस्पेक्टर ने रात 12 बजे उन्हें हाथ पकड़कर उनके कमरे से बाहर खींच लिया था
  • पुलिस ने यह भी परवाह नहीं की कि वह उस समय नाइटी पहने हुए थीं- हसीन जहां
  • हसीन जहां मंगलवार को हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी से मिली थीं

रामपुर: क्रिकेटर मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने डिडौली थाने की पुलिस द्वारा उनके साथ की गई बदसलूकी और बेवजह हिरासत में रखने की शिकायत एडीजी अविनाश चंद्र से की. उन्होंने कहा कि थाने के दो इंस्पेक्टर ने रात 12 बजे उन्हें हाथ पकड़कर उनके कमरे से बाहर खींच लिया था. यह भी परवाह नहीं की कि वह उस समय नाइटी पहने हुए थीं. ऐसे ही हालत में पुलिस उन्हें थाने ले गई. हसीन जहां की शिकायत के बाद एडीजी ने मामले की जांच सीओ रामपुर को सौंप दी है.

बता दें हसीन जहां मंगलवार को हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी से मिली थीं. उसके बाद बुधवार को वे फरहत नकवी के सतह एडीजी से मिलीं. हसीं जहां ने एडीजी को दी अपनी शिकायत में कहा कि 28 अप्रैल की शाम सात बजे बेटी आयशा और मेड के साथ सहसपुर में अपने पति शमी के घर पहुंची थीं. उनके ससुराल वालों एन शमी को फोन किया तो एक घंटे बाद ही पुलिस पहुंच गई. पुलिस ने उनसे पूछताछ की, जिसके बाद वह बेटी के साथ अपने कमरे में चली गईं. रात करीब 12 बजे जोर-जोर से पीटकर जबरन दरवाजा खुलवाया गया. दरवाजा खोलते ही थाने के एसएचओ देवेंद्र कुमार और एसआई केपी सिंह उनका हाथ पकड़कर बाहर खींचने लगे. उनका मोबाइल भी छीन लिया. वह कपडे़ बदलने को कहती रहीं लेकिन पुलिसवालों ने उन्हें नाइटी में ही खींचकर जीप में बैठा लिया और थाने ले आए.

हसीन जहां ने अपनी शिकायत में कहा कि कुछ देर बाद उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां जबरन उनसे एक सादे पेपर पर अंगूठा लगवाया गया. पुलिस वालों ने उनके साथ गाली गलौज भी की. उन्हें बेटी के साथ अपराधियों की तरह एक कोठरी में बंद कर दिया गया. अगले दिन शांति भंग में चालान काटकर एसडीएम के सामने पेश किया गया, जहां से उन्हें मुचलके पर छोड़ा गया. हसीन ने आरोप लगाया कि पति शमी के दबाव में पुलिस वालों ने उनके साथ बदसलूकी की.

ये भी पढ़े : डकैती की योजना बनाते हुए सिकंदर गिरोह के 4 सदस्य गिरफ्तार


If You Like This Story, Support NYOOOZ

NYOOOZ SUPPORTER

NYOOOZ FRIEND

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles