बंपर वैकेंसी: बिहार में 1.38 लाख टीचर्स की होगी बहाली

संक्षेप:

  • बिहार में 1.38 लाख शिक्षकों की होगी नियुक्ति
  •  TET-STET सर्टिफिकेट की वैधता 2 साल बढ़ी
  • वर्ष 2011-12 में पास छात्रों को होगा फायदा 

शिक्षा विभाग में बिहार सरकार ने  बुधवार को बड़े फैसले लिए. एक तोे ये कि प्रदेश के TET और STET सर्टिफिकेट धारकों की वैधता 2 साल के लिए बढ़ा दी गई है. साथ ही प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की बड़ी संख्या में नियुक्ति करने का भी ऐलान किया है. इसके तहत 1 लाख, 38 हजार शिक्षकों की बहाली की जाएगी.

शिक्षा विभाग के इस फैसले से TET और STET पास 82 हजार छात्रों को फौरी राहत मिल गई है. इसके तहत वर्ष 2011 और 17 में पास छात्रों को फायदा होने वाला है. ये अभ्यर्थी अब नियुक्ति की प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं.

बुधवार को शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आर.के महाजन ने इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि STET की डिग्री की वैधता भी 2 साल बढ़ाई गई है. वर्ष 2011 और 2017 में TET उत्तीर्ण 1 लाख 11 हजार 984 उम्मीदवारों के प्रमाणपत्रों की वैलिडिटी मई 2019 में खत्म हो गई थी. विभाग के फैसले के बाद उन सभी के प्रमाणपत्रों की अवधि 2 साल बढ़ाई गई है.

ये भी पढ़े : 10वीं पास के लिए पोस्ट ऑफिस में बंपर नौकरियां, सैलरी भी मिलेगी जबरदस्त


 साल 2012 और 2017 में आयोजित TET परीक्षा में 1 लाख 11 हजार 484 अभ्यर्थी पास हुए थे. 2012 में पास हुए 65984 अभ्यर्थियों की वैधता समाप्त मई में ही समाप्त हो गई थी. ऐसे में वे शिक्षक नियुक्ति की प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाते. यही कारण रहा कि राज्य सरकार ने उनकी वैधता दो साल के लिए बढ़ाने का निर्णय लिया है.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Related Articles