प्रयागराज कुंभ मेले के दौरान ना कोई ले सकेगा सात फेरे नहीं कर पाएगा निकाह

संक्षेप:

  • कुंभ मेले के दौरान नहीं होगी शादी
  • योगी सरकार ने लगाई रोक
  • मैरेज हॉल की सारी बुकिंग कैंसिल करने का आदेश

प्रयागराज: प्रयागराज में अगले साल 2019 में जनवरी से लगने वाले कुंभ मेले के दौरान ना तो कोई सात फेरे ले सकेगा और नहीं कोई निकाह कर पाएगा. योगी सरकार ने प्रमुख स्‍नानों के मद्देनजर शादियों पर रोक लगा दी है.

दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार ने एक आदेश जारी करते हुए अगले साल जनवरी, फरवरी और मार्च में होने वाले कुंभ मेले के प्रमुख स्नानों के दौरान एक दिन पहले और एक दिन बाद शादियों पर पाबंदी लगा दी है. इस आदेश की कॉपी सभी मैरेज हॉल में भेजकर उस टाइम की सारी बुकिंग कैंसिल करने का आदेश जारी कर दिया गया है.

सरकार के इस आदेश के बाद जिनके घरों में शादी है, वे असमंजस में हैं. कोई डेट नहीं बदलना चाहता तो कोई सरकार के आदेश के बाद गेस्ट हाउस वालों से झगड़ा कर रहा है. गेस्ट हाउस मालिकों का भी लाखों का नुकसान इस बार की लगन में हो रहा है. प्रयागराज में 2019 के कुंभ मेले के पांच प्रमुख स्नान पर्वों के दिन के आसपास न तो कोई सात फेरे लेगा और नहीं कोई निकाह पढ़ाया जाएगा.

ये भी पढ़े : ममता की महारैली पर परेश रावल का तंज, PM पद के लिए दावेदार इतने, कुर्सी नहीं बल्कि खटीया लाओ


आपको बता दें कि कुंभ मेला प्रयागराज में जनवरी से शुरू हो जाएगा. स्नान के आसपास की अवधि में सरकार ने एक सर्कुलर जारी करके सभी मैरिज हॉल और होटलों को नोटिस भेजा है कि वे कुंभ के स्नान के ना तो एक दिन पहले कोई शादी की बुकिंग करें और ना ही स्नान के एक दिन बाद. कुंभ में जनवरी महीने में मकर सक्रांति, और पौष पूर्णिमा स्नान है जबकि फरवरी में मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी और माघी पूर्णिमा का स्नान है. जबकि मार्च के महीने में महाशिवरात्रि का स्नान होगा, जिसमें करोड़ों श्रद्धालु संगम में डुबकी लगाकर मोक्ष की कामना करेंगे. सरकार की ओर से शादियों पर ग्रहण लगाने के इस आदेश की कॉपियां सभी होटलों और मैरिज हॉल को भेज दी गई हैं.

प्रयागराज शहर में सैकड़ों मैरिज हॉल और गेस्ट हाउस हैं और सभी मैरिज हॉल में बुकिंग पहले से की जा चुकी है. लोगों ने गेस्ट हाउस मालिकों को एडवांस में पैसे भी दे दिए हैं. लेकिन सरकारी फरमान के बाद सभी चिंतित हैं.

Your support to NYOOOZ will help us to continue create and publish news for and from smaller cities, which also need equal voice as much as citizens living in bigger cities have through mainstream media organizations.

Read more Allahabad News In Hindi here. देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में पढ़ने के
लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें |

Related Articles