शारदा नदी का पानी आबादी वाले इलाके में घुसने से चलने लगी नाव

संक्षेप:

  • शारदा नदी का पानी आबादी वाले इलाके में घुसाने से चलने लगी नाव
  • मानसून के दस्तक से तीन दिन से हो रही बारिश
  • बनबसा बैराज के पानी छोड़ने से उफना गई शारदा नदी

बरेलीः मानसून के दस्तक देने से तीन दिन से हो रही बारिश और बनबसा बैराज से रुक-रुक कर पानी छोड़ने जाने से शारदा नदी उफना गई है। गांव राणाप्रतापनगर में बाढ़ का पानी आबादी में घुस गया। कई जगह नाव के जरिये लोग आ-जा रहे हैं। नायब तहसीलदार ने राजस्व टीम के साथ गांव पहुंचकर बाढ़ और नदी के बढ़ते जलस्तर का जायजा लिया।

मंडल के पीलीभीत जिले के राणाप्रतापनगर गांव में सुतिया नाला के रपटा पुल पर तीन फिट पानी बह रहा है। आवागमन के लिए नाव का संचालन किया जा रहा है। नहरोसा गांव को जाने वाले मुख्य रास्ते पर भी गन्ना सेंटर के पास लगभग साढ़े तीन फिट पानी का बहाव चल रहा है। दर्जनों लोगों के घरों में बाढ़ का पानी घुस जाने से जनजीवन प्रभावित हो गया है।

राणाप्रतापनगर, नहरोसा के निचले भागों में गन्ना, मक्का, चरी, धान आदि फसलें जलमग्न हो गई हैं। सूचना पर पूरनपुर के नायब तहसीलदार अनुराग ¨सह ने कानूनगो रामचंद्र, लेखपाल राजीव कंचन आदि के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचकर बाढ़ का जायजा लिया। उन्होंने लेखपालों को बाढ़ चौकियों पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं।

ये भी पढ़े : GST Council की बैठक में फैसला, सैनिटरी नैपकिन पर खत्म जीएसटी


साथ ही सभी गांवों में नाव की व्यवस्था दुरुस्त कराने को कहा। चूंकि राणाप्रतापनगर इस बार शारदा नदी के भू-कटान के निशाने पर है इसलिए ग्रामीणों ने नायब तहसीलदार से एक मोटर वोट की मांग की है। उधर, बाढ़ आने के चलते बचाव कार्य बाधित हो गया है। नदी के उफना जाने से अधिकतर कटर डूब गए हैं।

मंगलवार को गांव के सैकड़ों युवकों ने रेत की बोरियां जाल में भरकर डाली तब कहीं कटान के खतरे को टाला जा सका। फिलहाल कटान की स्थिति नियंत्रण में है। बाढ खंड के जेई पीडी मौर्या, राममोहन चौबे, आरके बरनवाल मौके पर रहकर शारदा नदी पर नजर रखे हुए हैं।

 

अन्य बरेली ताजा समाचार पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें | देशभर की सारी ताज़ा खबरें हिंदी में
पढ़ने के लिए NYOOOZ HINDI को सब्सक्राइब करें|

Related Articles