खूबसूरत नजारों को निहारना हो तो सिक्किम का रुख करें

  • किसी पर्यटन स्थल पर घूमने जाना हमेशा ही एक रोमांचकारी अनुभव होता है
  • सिक्किम को भारत के सुन्दर शहरों में से एक माना जाता है
  • ।आइये इस अज्ञात पहाड़ी वाले भारतीय राज्य के बारे में कुछ जानें

किसी पर्यटन स्थल पर घूमने जाना हमेशा ही एक रोमांचकारी अनुभव होता है और आप वहां से लौटते वक़्त अकेले नहीं होते, आपके साथ होती हैं वहां की ढ़ेर सारी यादें। सिक्किम को भारत के सुन्दर शहरों में से एक माना जाता है और प्रकृति के वरदान से भरी यह जादुई जगह हिमालय पर्वत क्षेत्र में स्थित है। ऐसी कई जगहों में यह जगह भी कई महत्वपूर्ण स्थानों के लिए मशहूर है और यह कहा जाता है कि अपने जीवनकाल में आप यहाँ नहीं गए तो आपने कुछ खोया है।आइये इस अज्ञात पहाड़ी वाले भारतीय राज्य के बारे में कुछ जानें।
बर्फ से जमी थी छांगू झील

गंगटोक से अगले दिन हमें छांगू लेक और और नाथूला दर्रा जाना था लेकिन सुबह से ही चर्चा थी कि छांगू झील का रास्ता खुला मिलेगा या नहीं? नाथूला का परमिट मिलेगा या नहीं? हमें छांगू झील की परमिशन तो मिली लेकिन नाथूला पास जाने का परमिट नहीं मिला। 12,310 फीट की ऊंचाई पर थी छांगू लेक और 14,200 फीट की ऊंचाई पर है नाथूला दर्रा। इस दर्रे को कभी सिल्क रूट के नाम से पूरी दुनिया में जाना जाता था। यह भारत के सिक्किम और तिब्बत की चुम्बी घाटी को जोड़ता है। छांगू लेक को त्सोंगमो झील भी कहते हैं। पहाड़ के कठिन और संकरे रास्तों को पार करते हुए जब हम छांगू लेक पहुंचे तो बर्फ से पूरी तरह जमी इस झील को देखने हजारों पर्यटक उमड़े थे। नजारा वास्तव में रोमांचक था।

सिक्किम का आखिरी गांव लाचुंग

अगले दिन लाचुंग जाने का कार्यक्रम था। यह सिक्किम का छोटा सा कस्बा है. लेकिन यहां रूक कर पर्यटक नॉर्थ सिक्किम की यमथांग घाटी और जीरो प्वाइंट जाते हैं। यमथांग घाटी का प्रवेश द्वार है लाचुंग। इन कस्बों में रूकने के लिए सामान्य से होटल मिलते हैं जिनमें सुविधाओं के नाम पर रहने, सोने और खाने का इंतजाम होता है। वैसे जो पहाड़ के सफर पर निकले उसे इससे ज्यादा और चाहिए भी क्या? कठिन था पहाड़ों का 115 किमी का सफर। चुंगथांग होते हुए खूबसूरत पहाड़ी रास्ते से हम 8500 फीट ऊपर स्थित लाचुंग पंहुचे।

सिक्किम में पहले लें परमिट

सिक्किम में पहाड़ी जगहों पर जाने के लिए परमिट लेना जरूरी है। इसे गंगटोक के एम जी मार्ग स्थित टूरिज्म डिपार्टमेंट के ऑफिस से लिया जा सकता है। परमिट के लिए दो पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ और एक आईडी प्रूफकी जरूरत पड़ती है। सफर के एक दिन पहले ही परमिट जरूर ले लें। जगह जगह इसको चेक किया जाता है और आगे जाने की इजाजत दी जाती है।

Related Articles

Leave a Comment