हार्ट अटैक के अलावा ये भी हो सकते हैं सीने में दर्द के कारण

  • यह दर्द शीत मौसम में अधिक होते हैं
  • कई कारणों से सीने में दर्द उठता है
  • ये वजह हैं सीने में दर्द उठने की

सीने का दर्द होते ही लोग घबरा जाते हैं क्योंकि यह हार्टअटैक का एक संकेत होता है। बुज़ुर्ग लोग या पहले से ह्रदय रोग से पीड़ित लोग इतना परेशान हो जाते हैं कि घबराहट में और भी बीमार पड़ जाते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि सीने में दर्द के पीछे एक ही कारण होता है। कई कारणों से सीने में दर्द उठता है लेकिन बहुत जरूरी है कि आप लापरवाही न बरतें। कई बार सामान्य सी एसिडिटी या जुकाम के कारण भी सीने में दर्द उठता है लेकिन समय के साथ आप इसके इलाज पर ध्यान दें, यही सबसे अच्छा उपाय है।

फेफड़े की बीमारी

कई बार लोगों को फेफड़े की परत में सूजन बढ़ जाती है, जैसे ही अचानक किसी दिन ये सूजन बढ़ जाती है तो सीने में दर्द होने लगता है। लोग इसे हार्ट अटैक समझ लेते हैं. ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर से सलाह लें.

अंदरुनी सूजन

छाती की अंदरुनी हिस्सा बहुत ही झटिल होता है, ऐसे में कई लोगों को छाती की अंदरुनी झिल्ली में सूजन आ जाती है और उन्हें पता भी नहीं होता है। जब छाती की अंदरुनी झिल्ली की सूजी हुई सतह से सांस लेने पर हवा टकराने लगती है, यही वजह है कि छाती में अचानक दर्द उठता है।

पसली का दर्द

यदि किसी कारण से सीने की पसली टूट जाती है तो दर्द शुरु हो सकता है। जिन लोगों को स्पाइन में कोई समस्या होती है, उन्हें भी ये दर्द होने लगता है। ऐसे में लोग कई बार घबरा जाते हैं कि सीने में दर्द क्यों हो रहा है। नसों में यदि सूजन होती है तो भी सीने में दर्द हो सकता है। यह दर्द अक्सर शीत मौसम में अधिक होते हैं लेकिन अचानक दर्द होने पर तनाव में आना स्थिति को बिगाड़कर रख देता है।

एसिडिटी

ज़्यादातर लोगों को एसिडिटी से सीने में दर्द शुरू हो जाता है। एसिड जब ऊपर की ओर लौटकर आता है, जिस स्थिति में खट्टी डकारें आने लगती हैं, ऐसे में हल्का-हल्का सीने में दर्द उठता है। ऐसी हालत में सीने के दर्द के प्रति चिंतित होने की बजाय एसिडिटी का जल्द से जल्द उपचार करना चाहिए। पेट ठीक होते ही यह दर्द अपने आप ठीक हो जाता है।

 

Related Articles

Leave a Comment