अन्य गोरखपुर


                 कोरोना वायरस से बचने के लिए पूरे देश लॉकडाउन हो गया है। ऐसे में लोग अपने घरों से बाहर निकलने में कतरा रहे हैं।

                 कोरोना के मद्देनजर भारत-नेपाल दोनों देशों में लॉकडाउन घोषित है। ऐसे में नेपाल निर्यात होने वाले सामानों को लेकर सोनौली बार्डर पर आए सैकड़ों भारतीय ट्रक व चालक फंस गए हैं।

                 लॉकडाउन में लोगों की भलाई के लिए सख्ती के साथ ही पुलिस का एक मानवीय चेहरा भी सामने आ रहा है। पिछले दो दिनों में कई पुलिसकर्मी अपने-अपने इलाके में सड़क पर घूमने वाले गरीबों को भोजन भी करा रहे हैं।

                 शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के बच्चे को निशुल्क पढ़ाने वाले स्कूल प्रबंधनों की शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए शासन ने 1 करोड़ 82 लाख रुपये की धनराशि आवंटित कर दी है।

                 सहजनवां इलाके के डुमरी निवास गांव में बदामी देवी (30) की शुक्रवार की सुबह रहस्यमय मौत हो गई।

                 उत्तर प्रदेश के गोरखपुर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट गौरव सिंह सोगरवाल की पहल पर शहर के दो युवाओं मुदस्सिर निसार और मासिर ने ऑन लाइन पोर्टल के लिए डोर स्टेप डिलीवरी सेवा शुरू की है।

                 कोरोना को लेकर हुए लॉकडाउन के कारण मुलाकात बंद होने से अधिकांश बंदी परेशान हैं। वे अपने घरवालों का हालचाल नहीं ले पा रहे हैं।

                 कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में धार्मिक संस्थाओं में से एक गोरखपुर का प्रसिद्ध गीता प्रेस भी शामिल हो गया है।

                 लॉकडाउन होने के कारण एक युवक की शादी में दुल्हा के साथ उसके पिता और अगुआ ही पहुंचे।

                 कोरोना वायरस की चुनौतियों से निपटने के लिए ऐश्प्रा जेम्स एंड ज्वेल्स के निदेशक अतुल सराफ ने बृहस्पतिवार को कलेक्ट्रेट में जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन को 11 लाख रुपये का चेक दिया।

                 कोरोना वायरस के कारण प्रधानमंत्री ने पूरे देश में लॉकडाउन करवा दिया है। यह लॉकडाउन 21 दिनों तक चलने वाला है।

अन्य शहर